सोमवार, 8 अगस्त 2016

उसे तेशो खंज़र ओ तलवार दे।                                                   
काट दे वक्त की बेड़ियाँ बेहिचक,                                                    
खूबसूरत दी तस्वीर तो शुक्रिया,                                                     
बह गया प्यार शुब्हा  ए सैलाब में,                                                 
तू  मुझे हल,कलम और औजार दे।
 मेरी लेखनी को तो वो धार दे।
 इसे टांकने को कहीं दीवार दे ।
किसी दिल को तो तुख्में एतबार दे ।
मैं परश्तिश करूं न करूं क्या हुआ.
मेरे हक तो मुझे ए तरफदार दे ।
ना मुझे रोज आना पड़े मांगने,
बस एक बार में ही मददगार दे।
खुद बी खुद खेंच लुंगा लकीरें तो मैं.                                                  
हथेली बिन लकीरों की इस बार दे ।                                      

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी रे दें